Friday, 6 December 2013

हिंदी फिल्मों में पार्श्वगायन के रूप में पहला गाना : हिंदी सिनेमा के दुर्लभ गाने - 14

First Use of Playback Singing in Indian Films
--------------------------------------------------------------------------------------------------
 
हिंदी फिल्मों में पार्श्वगायन (Playback Singing) 1935 में शुरू हुआ, जब ऐसे कलाकारों ने प्रवेश किया जो अभिनय तो नहीं करते थे, लेकिन गायन करते थे ! इनमें शमशाद बेगम, जुथिका रॉय, गीता रॉय [दत्त], पारुल घोष आदि गायिकाएँ थीं !

[First use of playback singing in Indian films were in films directed by Nitin Bose in 1935 : first in 'Bhagya Chakra', a Bengali film and later in the same year, in its Hindi remake 'Dhoop Chhaon'.]

नितिन बोस की फिल्म 'धूप -छाँव' के इस गाने को 
पार्श्व गायन की शुरुआत का श्रेय जाता है :
प्रेम की नैय्या चली जल में मोरी
Prem ki naiyya chali jal mein mori

Film : Dhoop Chhaaon (1935)
Singers : Pahadi Sanyal and Uma Shashi
Music Composer : RC Boral
Lyrics : Pt Sudarshan
============================================