Friday, 17 January 2014

गायिका सुधा मल्होत्रा : [गायकों का पहला / आखिरी गाना- 13]

गायकों का पहला / आखिरी गाना- 13
--------------------------------------------------
Sudha Malhotra : First / Last Song
------------------------------------------------------------------------------------------------
हिंदी फिल्मों की गायिका सुधा मल्होत्रा 30 नवम्बर,1936 को दिल्ली में पैदा हुई ! रेडिओ लाहौर में एक बाल कलाकार [गायिका] के रूप में काम शुरू किया ! 6 साल की उम्र में कानन बाला के गाने से स्टेज पर गाना शुरू किया था ! गुलाम हैदर जी ने उन्हें गाने के मंच पर पहला मौका दिया था !

13 साल की उम्र में अपने माता-पिता के साथ मुम्बई आयीं, तब संगीतकार अनिल बिस्वास जी ने उन्हें पहला पार्श्वगायन- 'मिला गये नैन, मिला गये नैन' फिल्म- 'आरजू' (1950) के लिए मौका दिया ! इसे शशिकला पर फिल्माया गया था ! पहला ही गाना बहुत लोकप्रिय हुआ और गौरतलब है कि शशिकला जी और तलत महमूद की भी यह पहली फिल्म थी :
- First Song - 
Mila Gaye Nain, Mila Gaye Nain
Jinako Jiyaa Tarase Chupke Chupke
Meri Nazar Se Milaa Gaye Nain
Singer : Sudha Malhotra
Film : Aarzoo (1950)
Music : Anil Biswas
Lyricist : Majrooh Sultanpuri
=================================================
इस बड़े ब्रेक के बाद उन्हें कई फिल्मों में गाने का मौका मिला ! संगीतकार हुस्नलाल जी के कहने पर पटियाला घराने से शास्त्रीय संगीत की तालीम ली ! फिल्म- 'बरसात की रात' (1960) में कव्वाली- 'न तो कारवां की तलाश है..' जिसकी लगातार 23 घंटे रिकॉर्डिंग हुई थी ! फ़िल्मी गीतों के अलावा उन्होंने बहुत से भजन और ग़ज़ल भी गाये हैं !

गीता जी के साथ फिल्म- 'काला बाज़ार' (1960) के लिए उनका गाया 'न मैं धन चाहूँ न रतन चाहूँ' बहुत लोकप्रिय भजन रहा ! शायर साहिर लुध्यानवी के प्रोत्साहन को वह अपने करियर के लिए बहुत बड़ा सहायक मानती हैं ! साहिर के लिखे  फ़िल्म- 'दीदी' (1959) के गीत 'तुम मुझे भूल भी जाओ' का संगीत भी सुधा मल्होत्रा जी ने खुद बनाया था ! यही उनका पहले दौर का आखिरी गीत था

वर्ष 1957 से 1960 तक उनका बहुत अच्छा सफ़र रहा ! 1960 में शादी के उपरान्त गाना छोड़ देने के बाद राज कपूर की फिल्म- 'प्रेम रोग' फिल्म के लिए 'ये प्यार था या और कुछ और था' गीत के साथ फिल्मों में वापसी की ! यही उनका फिल्मों में अब तक का आखिरी गाना है :
- Last Song - 
Ye Pyar Tha Ya Kuchh Aur Tha Na Tujhe Pata
Singers : Sudha Malhotra, Anwar
Film : Prem Rog (1982)
Music : Laxmikant Pyarelal
Lyricist : Santosh Anand
====================================================
साहिर के लिखे गीत 'कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है' उन्होंने गीता दत्त के साथ खय्याम साहब के संगीत में चेतन आनंद की फिल्म के लिए गाया था, जो कभी पूरी बन नहीं सकी ! 78 वर्षीय सुधा जी इन दिनों मुम्बई के खार (पश्चिम) में अपने बेटे व नाती-पोतों के साथ रह रही हैं, 4 वर्ष पूर्व उनके पति गिरधर मोटवानी का निधन हो चुका है ! भारत सरकार ने 2013 में सुधा जी को हिंदी फ़िल्म संगीत के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया।
 ================================================
End
=====================